नर्मदापुरम भाजपा नेता सहित 6 गिरफ्तार पुलिस की वर्दी और मतपत्र फाड़ने वाले मंडल अध्यक्ष जेल जाने से बचे, सभी को थाने से छोड़ा

मध्य-प्रदेश

नर्मदापुरम जिले की सिवनी मालवा तहसील में पंचायत चुनाव की मतगणना के बाद गुंडागर्दी करने वाले बीजेपी मंडल अध्यक्ष वरुण रघुवंशी सहित 6 आरोपियों काे गिरफ्तार कर लिया गया। मंडल अध्यक्ष सहित 6 आरोपी वारदात के बाद से दो दिनों से फरार चल थे। सोमवार को मंडल अध्यक्ष वरुण रघुवंशी सहित चार आरोपियों को पुलिस ने पकड़ लिया। दो आरोपी को रविवार को ही गिरफ्तार हो गए थे। गिरफ्तार सभी आरोपियों को थाने से ही नोटिस देकर छोड़ने की तैयारी। जिससे पुलिस की वर्दी,मतपत्र फाड़ने, बलवा करने जैसे गंभीर अपराध के आरोपी जेल जाने से बच जाएंगे। मामले में 9 अन्य आरोपी फरार है।

यह है मामला

सिवनी मालवा तहसील के ग्राम बांकाबेड़ी पंचायत में 1 जुलाई को त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के लिए मतदान हुआ। सरपंच पद में भाजपा ग्रामीण मंडल अध्यक्ष प्रत्याशी वरुण रघुवंशी को सबसे ज्यादा मत मिले। जनपद पंचायत वार्ड क्रमांक 19 से उनकी भाभी रानी जसवंत रघुवंशी प्रत्याशी थी। मतगणना में रानी रघुवंशी को 1999 वोट और दूसरे उम्मीदवार राम रघुवंशी को 2034 वोट मिले। रानी रघुवंशी को 35 वोट कम मिलने और हार होने की संभावना को देखते हुए पुनर्मतगणना कराई। जिसमें भी स्थिति यथावत रही। रानी रघुवंशी के समर्थक भड़क गए और उन्ळोंने बेसबॉल से चुनाव दल पर हमला कर दिया। मत पेटी से मतपत्र जमीन पर फेंक फाड़ दिए गए। पकड़ने आए पुलिस इंस्पेक्टर और आरक्षक से भी भाजपा नेता व उनके समर्थकों ने मारपीट की। मारपीट में इंस्पेक्टर आरपी करवेती की वर्दी भी फाड़ दी गई। मामले में पुलिस ने बीजेपी मंडल अध्यक्ष वरुण रघुवंशी सहित 6 नामजद और 9 अन्य लोगों पर बलवा, शासकीय कार्य में बाधा सहित विभिन्न धाराओं में केस दर्ज किया।

नामजद 6 आरोपी गिरफ्तार

मतपत्र फाड़ने और पुलिस, मतदान दल पर हमला करने के मामले में 6 नामजद सहित 15 आरोपी है। भाजपा नेता वरुण रघुवंशी, शुभम रघुवंशी, जसवंत रघुवंशी, सिद्धार्थ रघुवंशी, लक्की राठौर, संत कुमार दरोई गिरफ्तार को चुके है।

7 साल से कम सजा में थाने से छोड़ने का प्रावधान

एसडीओपी सौम्या अग्रवाल ने बताया मतदान दल हमला व मतपत्र फाड़ने के मामले में नामजद 6 आरोपी गिरफ्तार हो गए है। सभी आरोपियों को थाने से नोटिस देकर छोड़ा है। मामले में सभी धाराओं में 7 साल से कम की सजा है। 7 साल से कम सजा वाले अपराध में थाने से छोड़ने का नियम है। अन्य 9 आरोपियों की तलाश जारी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *