पढ़ई तुंहर दुआर‘ से अब विद्यार्थियों को कैरियर मार्गदर्शन भी

रायपुर

रायपुर | ‘मेरा पढ़ाई में मन नही लगता ?‘ पढ़ाई में मन एकाग्र नहीं रहता ? मुझे आईएएस बनना है ? पुलिस में जाने के लिए क्या करना होगा ? शिक्षक कैसे बने? इंग्लिश की स्पेलिंग और मैथ्स का फार्मूला याद नही होता ? भारतीय सेना में जाने के लिए क्या करना होगा ? ऐसे ही प्रश्नों की बौछार आज राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद में कैरियर काउंसलिंग के लिए आयोजित ऑनलाईन कक्षा में हुई। स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा विद्यार्थियों की कैरियर एवं प्रतियोगी परीक्षा के मार्गदर्शन हेतु अब ‘पढ़ई तुंहर दुआर‘ वेब पोर्टल के माध्यम से कैरियर कॉउसिंलिंग की भी अभिनव सुविधा भी प्रदान की गई है। स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम के निर्देश पर विभाग द्वारा वेबपोर्टल को और अधिक उपयोगी बनाने का यह प्रयास सराहनीय है।
    ऑनलाईन कक्षा में कैरियर काउंसलिंग विशेषज्ञ डॉ. वर्षा वरवंडकर द्वारा पहली बार रूबरू होकर ‘पढ़ई तुंहर दुआर‘ के अंतर्गत बच्चांे को ऑनलाईन पढ़ाई करने के रोचक तरीके बताएं। उल्लेखनीय है कि लॉकडाउन के दौरान अवकाश घोषित होने के बावजूद भी स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा आज ऑनलाईन कक्षा का संचालन किया गया। गौरतलब है कि राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) रायपुर के संचालक श्री जितेन्द्र कुमार शुक्ला ने प्रत्येक शनिवार और रविवार को भी ऑनलाईन कक्षा संचालित करने के निर्देश दिए हैं। कैरियर काउंसलिंग विशेषज्ञ ने कक्षा 12 वीं के बाद प्रतियोगी परीक्षाओ की तैयारी सम्बन्धी सवाल का जवाब देते हुए बताया कि बच्चों को रोज सभी विषयों के 50-50 बहुविकल्पीय प्रश्नों को हल करने के अभ्यास की आदत डालनी होगी। यूपीएससी जैसे प्रतियोगी परीक्षाओ के लिए किसी भी संकाय के साथ सामान्य ज्ञान में बढ़ोत्तरी के लिए नियमित रूप से समाचार पत्रों को पढ़ते रहें। सामान्य ज्ञान बढ़ाने के लिए डायरी बनाकर नियमित रूप से अभ्यास करते रहने से भी परीक्षा में मदद मिलती है। इस तरह इंग्लिश की स्पेलिंग याद नहीं होती इस प्रश्न के जवाब में बताया कि आप इंग्लिश के ऐसे शब्द जो याद नहीं होते उनका फ्लैश कार्ड बना लंे और फ्लैश कार्ड के माध्यम से याद करने का अभ्यास करें। यह तरीका गणित के सूत्रों को याद करने में भी सहायक है।  
    ऑनलाईन पढ़ाई की पूर्व तैयार के संबंध में विद्यार्थियों को कई उपयोगी टिप्स दिए गए जिसमें यह बताया गया कि जैसे विद्यार्थी स्कूल जाने के लिए तैयारी करते है ठीक उसी प्रकार की तैयारी ऑनलाईन कक्षा में बैठने के पहले करनी चाहिए। मोबाइल को पूरी तरह से चार्ज करके रखे, अपने कमरे में किसी एक कोने पर रीडिंग कार्नर बनाकर रखे, ताकि क्लासरूम का अनुभव हो। ऑनलाईन पढ़ाई करने से आँखों में परेशानी होने जैसी बातों के संबंध में बताया गया कि कुछ समय बाद आँखों को ठन्डे पानी से धोते रहे और हथेलियों को रगड़ कर आँखों में रखने से आराम मिलता है, क्योकि हथेलियों को रगड़ने से जो कोस्मिक एनर्जी निकलती है वह आँख के लिए अच्छी होती है।
     कैरियर काउंसलिंग सत्र में एकाग्रता सम्बन्धी सवाल पूछे जाने पर बच्चों को बताया कि अपनी एकाग्रता को घर में ही उपलब्ध घरेलू सामग्रियों से गतिविधि कर बढाया जा सकता है। इसके लिए हमें चावल में राहल दाल, मूंग दाल, उड़द दाल, मसूर दाल सबको मिला कर फिर सबको अलग-अलग करना है। इस विधि से दो लाभ होगें पहली एकाग्रता बढ़ेगी और दूसरी आँखों का व्यायाम भी होगा।
     डॉ. वर्षा वरवंडकर ने छत्तीसगढ़ सरकार के 11 प्रकार के प्रतियोगी परीक्षाओं के आवेदन की तिथि की समयावधि 31 मई 2020 तक बढ़ाये जाने की जानकारी ऑनलाईन कक्षा में जुड़े विद्यार्थियों को दी। डॉ. वर्षा वरवंडकर माध्यमिक शिक्षा मंडल में विशेषज्ञ कैरियर काउंसलर के रूप में विगत 9 वर्षों से अपनी सेवाए दे रही है। उन्होंने चर्चा में बताया कि पहली बार ऑनलाईन क्लास लेकर बच्चो से बात करना काफी उत्साहजनक और सकारात्मक रहा। छत्तीसगढ़ शासन की यह योजना लॉकडाउन के दौरान उसके बाद काफी लाभदायक रहेगी।
    एससीईआरटी संयुक्त संचालक डॉ. योगेश शिवहरे के निर्देशन में ऑनलाईन कक्षा का समन्वय श्री सुशील राठौर और श्रीमती अश्मिता मिश्र के द्वारा किया जा रहा है। कैरियर काउंसिलिंग के अलावा आज कलमा राजपाल द्वारा जीवविज्ञान और कौशिक मुनी त्रिपाठी द्वारा भौतिकी विषय की ऑनलाईन क्लास ली गई।
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *